जानिए BS6 वाहनों के लिए क्यों जरूरी है BS6 Fuel, 2 हफ्ते पहले ही शुरू की गई आपूर्ति

जानिए bs6 वाहनों के लिए क्यों जरूरी है bs6 फ्यूल, 2 हफ्ते पहले ही शुरू की गई आपूर्ति

नई दिल्ली: भारत में 1 अप्रैल से नए bs6 नॉर्म्स लागू होने वाले हैं जिसके बाद bs4 वाहनों की बिक्री बंद हो जाएगी। bs4 वाहनों की बिक्री बंद होने के साथ ही अब bs6 वाहनों के लिए खास फ्यूल की भी बिक्री शुरू की जाएगी जिसे bs6 फ्यूल कहा जा रहा है। bs6 फ्यूल की बिक्री के लिए 1 अप्रैल की डेडलाइन दी गई थी लेकिन देश की दिग्गज तेल निर्माता कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन ( Indian Oil Corporation ) ( आईओसी ) ने डेडलाइन से दो हफ्ते पहले देश और दुनिया में bs6 फ्यूल ( पेट्रोल और डीजल ) की आपूर्ति शुरू कर दी है। आईओसी अपने सभी 28,000 पेट्रोल पंपों के जरिए अल्ट्रा-लो सल्फर ईंधन का वितरण कर रही है।

अन्य ईंधन विक्रेता, Bharat Petroleum Corporation Ltd ( BPCL ) ( भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड ) और Hindustan Petroleum Corporation Ltd ( HPCL ) ( हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड ) भी उत्तरोत्तर BS6 मानक ईंधन ( BS6 Fuel ) की आपूर्ति कर रहे हैं।

जाने क्या है इस इंधन की खासियत

आप लोग सोच रहे होंगे कि bs6 इंजन में ऐसा क्या खास है, तो आपको बता दें कि 1 अप्रैल से जो bs6 इंजन मिलेगा उस में सल्फर की मात्रा बेहद ही कम है। दरअसल सल्फर वायु प्रदूषण के लिए जिम्मेदार होता है और वाहनों के नए bs6 इंजन के हिसाब से bs6 फ्यूल में सल्फर की मात्रा कम रखी गई है इससे प्रदूषण कम होगा।

वाहनों के लिए बेहद जरूरी

आपको बता दें नए bs6 फ्यूल को b6 वाहनों में इस्तेमाल किया जाएगा अगर आप भी एस सिक्स वाहनों में bs4 फ्यूल का इस्तेमाल करते हैं तो इससे वाहन के इंजन पर बुरा असर पड़ेगा और इस में दिक्कत आने लगेगी। कई लोग सोच रहे होंगे कि वह अपने बीए सिक्स वाहनों में bs4 फ्यूल भी डालकर चला सकते हैं पर ऐसा नहीं है इसीलिए खासतौर से bs6 वालों के लिए bs6 फ्यूल इस्तेमाल किया जाएगा और डेडलाइन से पहले ही इसकी आपूर्ति भी शुरू की जा चुकी है जिससे लोगों को इसे खरीदने में किसी तरह की दिक्कत ना आए।

Check Out Here - Latest Update Automobile News in Hindi

Post a Comment

0 Comments